Sunday, September 28, 2008

अटल बिहारी वाजपेयी और बंगला नम्बर 8

मानव जीवन पर शनि ग्रह के दुष्प्रभाव से तो सभी परिचित हैं परन्तु शनि के अंक 8 का जो भयावह खाका ट्रिपल 8 (8-8-2008=8+8+2+8=26=2+6=8) को न्यूज चैनलों द्वारा खींचा गया उस वजह से लोग अंक 8 से भी बेहद डर गये हैं। उस दिन को समाचार चैनलों ने इतना दहशत भरा बना दिया था कि लोग अपने मोबाइल नंबर, फोन नंबर, बैंक एकाउंट नंबर, वाहन नंबर जोड़ने में लग गये थे कि कहीं उनका योग 8 तो नहीं हो रहा। एक अति उत्साही न्यूज चैनल ने तो उस दिन को प्रलय का दिन घोषित कर दिया था जबकि आश्चर्य ये था कि उस चैनल पर बैठे कई विद्वानों में से एक ने भी उसके संचालकों को यह नहीं बताया था कि उस चैनल के नाम से जो अंक बन रहा था वो भी 8 ही था। इन्हीं चैनलों की मेहरबानी से अब शनि ग्रह के साथ अंक 8 की चर्चा भी निरंतर होने लगी है।
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के कृष्ण मेनन मार्ग स्थित बंगला नम्बर को लेकर अंक 8 फिर चर्चा में है। ये बंगला जब अटल जी को आवंटित किया गया था तो इसका नंबर 8 था परंतु न्यूमेरॉलॉजिस्ट की सलाह पर उसका नम्बर बदलकर 6ए कर दिया गया था इसको लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय और नगरीय प्रशासन मंत्रालय से यह जानकारी चाही गयी कि कोई आम आदमी भी चाहे तो क्या उसके मकान नम्बर में परिवर्तन हो सकता है
प्रश्न ये है कि क्या वाकई अंक 8 हर मानव के लिये विपत्ति लेकर आता हैक्या किसी भी व्यक्ति को अंक 8 के मकान में निवास नहीं करना चाहिये ? घ्होता ये है कि सभी राशियां सभी नक्षत्र, सभी अंक शुभ और अशुभ फलदायी होते हैं और ये मानव के जन्म समय के नक्षत्रों की स्थिति अनुसार शुभ और अशुभ फल देते हैं। मनुष्य का समय जब अच्छा होता है तब तो इन बातों पर वो ध्यान नहीं देता जबकि बुरा समय प्रारम्भ होते ही उसका ध्यान इस तरफ जाने लगता है। अंक 8,4,और 9 बेहद शक्तिशाली अंक होते हैं। दूसरे अंकों की तुलना में इन अंकों के शुभ और अशुभ फल अधिक दिखाई देते हैं। अंक 8 में ही इतनी शक्ति पाई जाती है कि जिस मनुष्य के लिये अंक 8 शुभफलदायी होता है उसे जमीन से उठाकर आसमान की बुलंदियों पर पहुंचा देता है।
हालांकि अटल जी का जन्म दिनांक 25=2+5=7 है परंतु उनके जीवन पर अंक 8 और 4 का प्रभाव अधिक है। इन्हीं अंकों की शक्ति ने उन्हें एक छोटे से शहर की राजनीति से उठाकर प्रधानमंत्री पद तक पहुंचाया।
वर्तमान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी भी अंक 8 के ही शुभ फल के कारण अपने दिग्गज प्रतिद्वंदियों को पछाड़ते हुये प्रधानमंत्री बने।मनमोहन सिंह का जन्म दिनांक 26=2+6=8 को हुआ और इनका नाम अंक MANMOHAN SINGH (41547515 31535 =49=4+9=13=1+3=4) है। इस संबंध में मैं पहले अपने लेख ``अंक शास्त्र की सत्यता को जानने के कुछ आसान उपाय´´ में बता चुका हूं कि जन्म अंक 8 वाले व्यक्ति का नामांक अधिकतर 4 या 8 होता है।
वहीं लालकृष्ण आडवाणी, नरेन्द्र सिंह मोदी, मुलायम सिंह, और लालू यादव भी अंक 4 अथवा अंक 8 के ही प्रभाव से राजनीति के शिखर पर पहुंचे हुये हैं। इनमें लालकृष्ण आडवाणी का जन्म 8-11-1927 यानि जन्म अंक 8, नाम अंक भी 8 है।
देखें - Lal Krishna advani (313 2213551 146151=44=4+4=8)
नरेन्द्र सिंह मोदी का जन्म 17-9-1950 को हुआ और उनका जन्म अंक भी 17=1+7=8 है। इसी तरह उनका नाम अंक भी 4 है।
देखें- Narendra Singh Modi (51255421 31535 4741=58=5+8=13=1+3=4)
मुलायम सिंह यादव का जन्म जहंा दिनांक 22 को हुआ है वहीं लालू प्रसाद यादव का सही जन्म दिनांक पता नहीं है परंतु उनके नाम अंक का कुल योग 4 एवं 8 है।
देखें -Lalu Yadav (3136 11416=26=2+6=8)
इनके अलावा भी अधिकतर बेहद सफल (खास तौर पर ऐसे लोग जो बिना साधनों के अत्यधिक सफलता अर्जित करते हैं) व्यक्ति जन्म अथवा नाम अंक 8 से संचालित होते हैं। यहां तक कि मुगल साम्राज्य के सबसे सफल शासक अकबर (Akbar 12212=8) का नाम अंक और जन्म अंक 8 ही था। प्रश्न ये है कि यदि उपरोक्त सभी बातें सही हैं तो फिर अंक 8 से बचने की सलाह क्यों दी जाती है। मेरा मानना है कि अंक 8 से उन लोगों को बचना चाहिये जिनके जीवन में हर कार्य में अंक 8 आड़े आता हो और सारी सुविधाओं और साधनों के वे व्यक्ति असफल जीवन बिता रहे हों। उन्हें तुरंत अंक 8 को त्याग देना चाहिये, उन्हें अंक 8 के मकान नम्बर में नहीं रहना चाहिये लेकिन वे जो अपनी क्षमता से भी अधिक अंक 8 के कारण सफलता अर्जित कर रहे हों उन्हें वक्ती असफलताओं से घबरा कर अंक 8 का त्याग नहीं करना चाहिये क्योंकि अंक 8 यदि शुभ फल दे रहा हो तो मनुष्य की सफलता में कोई बाधा आ ही नहीं सकती। और अशुभ फल तो मनुष्य के जीवन के प्रारम्भ में ही दिख जाता है क्योंकि जिसके लिये अंक 8 अशुभफलदायी है उसका जीवन स्तर ऊपर उठ ही नहीं पाता है।

1 comment:

Neelu Mishra said...

अच्‍छा लिखते हो, लेकिन आप अपना ध्‍यान केवल 4 व 8 के अंकों के आस पास ही रख रहे हो। बाकी के अंक भी जीवन में प्रभाव डालते हैं और इन्‍हीं अंकों की तरह जीवन में अच्‍छी व बुरी घटनाओं का सृजन करते हैं। हालांकि ये दो अंक बहुत ही भयानक तरीके से आक्रमण करते हैं, इसलिए ज्‍यादा याद रहते हैं, जबकि अन्‍य अंकों के समय पर होने वाली घटनाएं या तो धीरे से होती हैं, अथवा अपना प्रभाव दिखाने में काफी समय लेती हैं, इसलिए अन्‍य अंकों पर कोई भी व्‍यक्ति ज्‍यादा ध्‍यान नहीं देता है।

मैं स्‍वयं 1997 से अंकों पर खोज कर रहा हूं और मैंने पाया है कि अंक एक तरह का जादू है। जो इस जादू को समझ गया है वह किसी भी तरह से अपनी बात मनवा सकता है, जबकि जो इस जादू को नहीं जानता, वह भाग्‍य के भरोसे जीता है।

मैंने भी अपना ब्‍लॉग बनाया है, यदि आप उस पर अपनी टिप्‍पणी लिखेंगे, तो मुझे खुशी होगी। मैं अंक विद्या को एक शक्ति के समान मानता हूं, जिसे अच्‍छे व बुरे दोनों तरीकों से उपयोग में लिया जा सकता है। मैंने रिसर्च किया और पाया कि अंकों को यदि ठीक तरह से उपयोग में लिया जाए, तो सामान्‍य जीवन की तुलना में ज्‍यादा सफलता प्राप्‍त की जा सकती है। बस, अपने ब्‍लॉग पर मैं इसी बात को दर्शाने की कोशिश कर रहा हूं, कि किस तरह से एक आम आदमी अपने सामान्‍य जीवन में अंकों का प्रयोग करके सामान्‍य से ज्‍यादा सफलता प्राप्‍त कर सकता है।

यदि आप लिंक एक्‍सचेंज करना चाहें, तो मुझे खुशी होगी। धन्‍यवाद

http://numerology-help.blogspot.com